AD Video Of Day

Breaking News

कंप्यूटर विजन सिंड्रोम को घर से रोकने के अचूक तरीके | आँखों का बचाव

 

कंप्यूटर विजन सिंड्रोम को घर से रोकने के  अचूक तरीके|आँखों का बचाव 

 

जैसे-जैसे घर से काम करने वाले लोगों की संख्या बढ़ती जा रही हैकंप्यूटर से संपर्क बढ़ता जा रहा हैं | कंप्यूटर पर बिताया गया अतिरिक्त समय, चाहे वह डेस्कटॉप, टैबलेट, ई-रीडर या मोबाइल फोन हो, आंखों से संबंधित समस्याओं के लिए अधिक संभावनाएं पैदा कर रहा है। यह कंप्यूटर विज़न सिंड्रोम या सीवीएस के रूप में जाना जाता है।  जिसके परिणामस्वरूप आंखों में सूखापन, जलन, एकाग्रता की कमी  और काम के परफॉरमेंस पर  नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।


ankhon-ka-khayal
ankhon-ka-khayal

ऐसा कई कारणों से होता है। सबसे पहले, काम करने की दूरी ,स्पष्ट दृष्टि बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण मांसपेशियों को काम करने के लिए आवश्यकता होती है। लम्बे समय तक कंप्यूटर से काम लेने से  मांसपेशियों की थकान का अनुभव होता है।

दूसरा यह है कि निरंतर कंप्यूटर स्क्रीन के नजदीक काम करने से आँखों पर प्रेशर पड़ता हैं ,जो विचलितता को बढ़ाता है और ध्यान अवधि को कम करता है।

 हम सब जानते हैं पलक झपकना मानव की निरन्तर प्रक्रिया है आप यह जानकर हैरान होंगे की  पलक नमी का उत्पादन करती है और यह एक आवश्यक घटक है जो आँखों को प्रोटेक्ट भी करते हैं पर , कंप्यूटर का उपयोग बहुत जायदा समय करने पर पलक के झपकने पर भी प्रभाव पड़ता हैं |  नियमित रूप से ब्लिंकिंग प्रति मिनट लगभग 15 बार होता है। हालांकि, अध्ययन से संकेत मिलता है कि कंप्यूटर और अन्य डिजिटल स्क्रीन उपकरणों का उपयोग करते समय प्रति मिनट 5 से 7 बार ही पलक झपकती है। आंख की सतह पर कम नमी , धुंधली दृष्टि, आँखों में पानी आना  और आंखों की जलन इस तरह की समस्या शुरू हो जाती हैं |

यहां कंप्यूटर विज़न सिंड्रोम से निपटने और आँखों के  स्वास्थ्य बनाए रखने के कई अचूक तरीके  हैं।

 


computer-vision-syndrome
computer-vision-syndrome

 A . स्क्रीन को उचित दूरी से देखते हुए ,स्क्रीन गार्ड का भी उपयोग करे | 

 B . स्क्रीन की चकाचौंध को कम रखना चाहिए |  बेचैनी बहुत अधिक चकाचौंध के परिणामस्वरूप हो जाती  है। कंप्यूटर टर्मिनल पर स्क्रीन लगाकर हाई ब्राइटनेस  को कम किया जा सकता है। आईवियर पर एंटी ग्लेयर कोटिंग भी मदद कर सकती है। 

 C . कंप्यूटर स्क्रीन देखते हुए बीच-बीच में रेस्ट ले ,उससे आपकी कार्यक्षमता पर भी अच्छा असर  पड़ता हैं |

 D .कंप्यूटर पर अगर आप लम्बे समय तक काम कर रहे हैं तो बीच-बीच में ब्रेक के साथ आँखों की एक्सरसाइज भी करे |

 E . कंप्यूटर  से संबंधित आंखों के तनाव को रोकने के लिए,  स्क्रीन को सही जगह पर रखना चाहिए, और ब्रेक लेना चाहिए। उठना, चारों ओर घूमना, और शोल्डर की हलकी एक्सरसाइज , कलाई, गर्दन और पीठ की हलकी एक्सरसाइज  आंखों के तनाव को कम करने और अधिक कार्यक्षमता बढ़ाने   में कारगर सिद्ध होती हैं |

 

याद रखे यह छोटी -छोटी बातो पर अगर हम गौर करे और कंप्यूटर का उपयोग करते हुए इन्हे अमल में लाये तो हम कॉम्पटर का उपयोग आँखों को स्वस्थ रखते हुए कर सकते हैं |

 

थैंक्स 

कोई टिप्पणी नहीं